Skip to main content

जिनका उद्देश्य है ग्राहकों को आकर्षित करना

मेले में किसी भी उत्पाद के प्रचार के लिए कंपनी विभिन्‍न हथकंडे अपनाती है ।ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए कंपनियाँ दर्शकों के भीड़ जुटाकर अपने उत्पाद हेतु प्रचार-प्रसार करना ज्यादा फायदेमंद मानती है । इसके तहत रोड शो, नुक्‍कड़ नाटक, ऑस्केस्ट्रा, लकी ड्रा, लॉटरी, पजल गेम, क्विज आदि तरीके आते हैं । ग्राहकों के मन में उत्पाद के प्रति संभावना, माँग, नकारात्मक एवं सकारात्मक पहलुओं को जानना समझना अति आवश्यक होता है । इसके लिए हर बड़ी कंपनी सर्वेक्षण एजेंसी का सहारा लेती है । देश के विभिन्‍न क्षेत्रों से ग्राहकों की मानसिकता का अध्ययन कुछ पन्‍नों में विभिन्‍न प्रश्नों को पूछकर किया जाता है । सी-४, नेल्सन, मार्ग, क्रेड आदि सर्वेक्षण कंपनियाँ उत्पाद निर्माताओं, राजनैतिक दलों, गैर सरकारी/ सरकारी संस्थाओं व व्यक्‍ति विशेष के संदर्भ में व्यापक रूप से आँकड़ा इकट्‌ठा कर पूरी योजनाओं को मूर्त्त रूप देते हैं ।
इसी के अगली कड़ी के रूप में उत्पाद निर्माता अपने उत्पादों के लांचिंग हेतु ज्यादा से ज्यादा भी जुटाने हेतु विभिन्‍न कलाकारों को भी हायर करती है । इस असायनमेंट के तहत उन कलाकारों की जिम्मेवारी भीड़ का भरपूर मनोरंजन करते हुए अपने उत्पादों का प्रचार करना तथा बिक्री बढ़ाना होता है । इवेंट से जुड़े कलाकरों में कई पहलुओं का होना आवश्यक है । पॉप गायकों, सफल गजल गायकों और कवियों का इस्तेमाल आज धड़ल्ले से दर्शकों के भरपूर मनोरंजन एवं भीड़ जुटाने में किया जा रहा है ।
दिल्ली के प्रगति मैदान में आयोजित आईआईटीएफ में विभिन्‍न उत्पाद निर्माता ऐसे बहुमुखी कलाकारों का सहारा अपने संभावित ग्राहकों हेतु ले रही है । एक ऐसे ही प्रतिभावान एवं ओजस्वी कलाकार का नाम है- अतुल जिसका इस्तेमाल लोहिया ग्रुप ने अपने ईबाईक के प्रमोशन के लिए किया है । बहुआयामी प्रतिभा के घनी अतुल में बहुत सारी खूबियाँ हैं । ये बेस्ट एंकरिंग पॉप गायन, सवाल-जवाब और क्विज के मास्टर भी हैं । इनकी सबसे बड़ी खासियत युवाओं की धड़कनों को बखूबी परखना है । पूरे प्रगति मैदान में सबसे अधिक भीड़ जुटाने का कार्य इन्होंने किया है । दर्शकों से सवाल पूछना उन्हें अंदर तक झकझोरना, उनसे हँसी-मजाक करना उनका ज्ञानवर्द्धन करना और इस सबसे महत्वपूर्ण भीड़ के दिमाग में अपने कंपनी के ब्रांड को फिक्स कर देना इनके दाहिने हाथ का खेल है । उपर से तो यह काफी आसान लगता है परन्तु यह इतना आसान भी नहीं है । दर्शकों की मानसिकता का अध्ययन करना, कंपनी की माँग एवं संतृष्टि में संतुलन स्थापित करना ही मूल उदेश्य है इनका ।
पन्द्रह दिन के मेले में भीड़ जुटाने के लिए ऐसे कलाकारों को कंपनी से ५० हजार से १० लाख रू. तक के ऑफर मिलते हैं । खासकर मोबाइल, हर्बल उत्पाद, बाईक/ऑटो, कार, टेक्सटाईल्स, कंपनियाँ फैशन शो एवं अपने स्टॉल पर उत्तेजक वस्त्र में खूबसूरत कन्याओं को हायर करती है । जिसके जितने कम कपड़े हैं उसकी उतनी ही ज्यादा कीमत हैं । दूरी का एकमात्र उद्देश्य है आकर्षण पैदा करना, दर्शकों का मनोरंजन प्रोडक्‍ट का दिल में छा जाना और इसके माध्यम से बिक्री बढ़ाना ।
अच्छे कलाकारों, मॉडलों ने तो अपने पी.आर.ओ भी नियुक्‍त कर रखे हैं । फिल्म जगत की हस्तियाँ अब मात्र फिल्म/टीवी में शूटिंग तक ही नहीं बल्कि ऐसे उत्पादों के शोरूम एवं कार्यक्रम में उद्‌घाटन कर्त्ता के रूप में धड़ल्ले से प्रयोग किए जा रहे हैं ।
कई व्यवसायी नामी कलाकारों/हस्तियों के साथ डिनर/लंच तथा सेमिनार/गोष्ठी, प्रदर्शनी/एक्जीविशन के माध्यम से दर्शकों/ग्राहकों को जुटाने के सशक्‍त अभियान में अपनी अहम भूमिका निभा रहे है । वैश्‍वीकरण के इस युग में उद्योग जगत के इस नए ट्रेंड को समझना काफी महत्वपूर्ण है । आज उत्पाद के निर्माण में कम,उत्पाद के प्रचार-प्रसार पर अधिक बजट खर्च की जा रही है । जो सफल व्यवसायी इस तथ्य को समझता है वह बाजार को दोहन करने में सफलता प्राप्त कर रहा है । अतः यदि आप भी अपने व्यवसाय को सफल बनाना चाहते हैं तो अबिलंब इस ट्रिक को अपनाइए एवं अपने उत्पादों को बिक्री बढाइये ।
- गोपाल प्रसाद

Comments

  1. Gopal Prasad ji aaj kal marketing ka yahi funda hai. Sales poromotion aisi jadu ki jhppi hai ki sab kuch bi jata hai.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …