Skip to main content

Posts

Showing posts from March, 2011

आरटीआई के सशक्तिकरण से ही लोकतंत्र सशक्त होगा : गोपाल प्रसाद

आरटीआई एक्टिविस्ट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया द्वारा दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज के सेमिनार हॉल में लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई की भूमिका " विषय पर आयोजित सेमिनार की अध्यक्षता इंडियन कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन बार के अध्यक्ष एवं सुप्रीम कोर्ट के अध्यक्ष प्रवीण एच पारीख ने की. अपने अध्यक्षीय संबोधन में श्री पारीख ने कहा की लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई एक्ट एक बेहतर टूल साबित हो सकता है . अमीरों के लिए आरटीआई का कोइ खास महत्त्व बेशक न हो परन्तु गरीबों के लिए यह प्रमुख हथियार हो सकता है .टाइम्स ऑफ़ इंडिया के कार्टूनिस्ट आर .के.लक्षमण का उदहारण देते हुए उन्होंने कहा की कुछ लोग कुछ खास करने के लिए संकल्पवद्ध होते हैं .वैसे लोग शरीर और मन दोनों से कठोर परिश्रम करने वाले होते हैं, जिनमें से एक गोपाल प्रसाद आरटीआई एक्टिविस्ट भी हैं. आज आरटीआई आन्दोलन को ऐसे ही संकल्प शक्ति वाले उर्जावान लोगों की आवश्यकता है. इंडिया ऑन फ़ोन के सीईओ इ.के.झा ने संस्था के साथ मिलकर आरटी आई ऑन फोन के माडल की उपयोगिता पर प्रकाश डाला एवं टेलीफोन के माध्यम से आरटीआई आन्दोलन को गति देने का संकल्प लिया .उन्हो…

लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई की भूमिका

आरटीआई एक्टिविस्ट एसोसिएशन ऑफ़ इंडिया द्वारा दिल्ली विश्वविद्यालय के रामजस कॉलेज के सेमिनार हॉल में लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई की भूमिका " विषय पर आयोजित सेमिनार की अध्यक्षता इंडियन कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ इंडियन बार के अध्यक्ष एवं सुप्रीम कोर्ट के अध्यक्ष प्रवीण एच पारीख ने की. अपने अध्यक्षीय संबोधन में श्री पारीख ने कहा की लोकतंत्र के सशक्तिकरण में आरटीआई एक्ट एक बेहतर टूल साबित हो सकता है . अमीरों के लिए आरटीआई का कोइ खास महत्त्व बेशक न हो परन्तु गरीबों के लिए यह प्रमुख हथियार हो सकता है .टाइम्स ऑफ़ इंडिया के कार्टूनिस्ट आर .के.लक्षमण का उदहारण देते हुए उन्होंने कहा की कुछ लोग कुछ खास करने के लिए संकल्पवद्ध होते हैं .वैसे लोग शरीर और मन दोनों से कठोर परिश्रम करने वाले होते हैं, जिनमें से एक गोपाल प्रसाद आरटीआई एक्टिविस्ट भी हैं. आज आरटीआई आन्दोलन को ऐसे ही संकल्प शक्ति वाले उर्जावान लोगों की आवश्यकता है. इंडिया ऑन फ़ोन के सीईओ इ.के.झा ने संस्था के साथ मिलकर आरटी आई ऑन फोन के माडल की उपयोगिता पर प्रकाश डाला एवं टेलीफोन के माध्यम से आरटीआई आन्दोलन को गति देने का संकल्प लिया .उन्हो…

Right to information as a tool for good governance and against corruption-P.H.Parekh

"RTI ACTIVISTS ASSOCIATION OF INDIA” organized a lecture on " ROLE OF RTI FOR EMPOWERMENT OF INDIAN DEMOCRACY" at Seminar Hall, Ramjas College Delhi University . Hon'ble Mr.Pravin.H Parekh Senior Advocate, Supreme Court of India and President Confederation of Indian Bar has preside over the lecture.Mr Pareekh Said that Right to information as a tool for good governance and against corruption: Corruption thrives on secrecy. Individuals and institutions become corrupt only when there is no public scrutiny of their actions. The more they operate in the public gaze the less corrupt and more efficient they are likely to be. In this respect, the right to information can be utilised as a tool to fight the widespread corruption in India. In 2006, India received a score of just 3.3 (out of a maximum of ten) in Transparency International’s Corruption Perceptions Index, ranking it 70th out of 163 countries. This reflects the serious corruption problem in India - a problem that…

केन्द्रीय कृषि मंत्री हरीश रावत ने 16 महिला रत्नों को सम्मानित किया

‘‘विश्व मित्र परिवार’’ संस्था की अंगीभूत इकाई ‘‘विश्व महिला परिवार’’ द्वारा विश्व महिला दिवस के अवसर पर ;आजाद भवन, आईसीसीआर, आईटीओ, नई दिल्ली में आयोजित कार्यक्रम के अवसर पर केन्द्रीय कृषि राज्यमंत्री हरीश रावत ने राष्ट्रीय स्तर पर विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत 16 महिलाओं को उनके उत्कृष्ट योगदान हेतु सम्मानित किया। गुजरात की श्रीमती संस्कृति रानी देसाई को अत्याध्ुनिक बहुमुखी विचार प्रवाहिका के रूप में तथा मुंबई (महाराष्ट्र) की डॉ. अलका ईरानी को अत्याधुनिक सूचना तकनीक के आलोक में ‘‘विलक्षण महिला रत्न’’ से एवं उत्तर प्रदेश से डॉ. पल्लवी मिश्रा को उच्च शिक्षा व समाज सेवा, झुंझनू (राजस्थान) की श्रीमती रूक्मणी भेड़ा को समाज सेवा के आलोक में ‘‘समाजरत्न’’ सम्मान से सम्मानित किया गया। छत्तीसगढ़ की डॉ. विभा दूबे को समाज सेवा, मुंबई (महाराष्ट्र) की श्रीमती तारा सिंह को साहित्य सेवा, उड़ीसा की श्रीमती जयंती साहू को समाजसेवा, दिल्ली की साध्वी श्रीकृष्णप्रिया डॉ. अंजू को भारतीय विद्या पर शोध, श्रीमती रमेश कुमारी भारद्वाज तथा श्रीमती रामवती, बिहार की श्रीमती सीमा कुमारी का शिक्षा एवं समाजसेवा, दिल्ली …

MORE THAN 30 CRORE RUPEES SCANDAL BY NAME OF BIODIVERSITY PARKS PROJECT IN DU

MORE THAN 30 CRORE RUPEES SCANDAL BY NAME OF BIODIVERSITY PARKS PROJECT
IN CEMDE, DELHI UNIVERSITY BY RETIRED PROF. C. R. BABU
Prof. C. R. Babu worked as a Professor in the Dept of Botany, University of Delhi and retired at the superannuated age of 65 years on 30/06/2005. During his service period he had been designated as the Director of a small centre named CEMDE (Centre for Environmental Management of Degraded Ecosystems) in 1990, Pro Vice Chancellor (PVC) in 2000 and Acting Vice Chancellor (VC) of the University of Delhi in 2005. He continued his service in the university as the Director-CEMDE from 24/01/1990 to 29/06/2005, PVC from 08/08/2000 to 29/06/2005 and Acting VC from 16/05/2005 to 29/06/2005.
Prof. C. R. Babu before retirement as serving professor and PVC, a verbal proposal for conferment of the dignitary title Professor Emeritus to himself was made approved in the Academic Council (AC) meeting on 23/04/2005 and decision taken in the Executive Council (EC)meeting on 29/04…