शनिवार, 7 मई 2011

स्वतंत्र भारत में भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन बिषय पर प्रतिनिधि सम्मलेन





जनता दल (यू) के एंटी करप्शन फ्रंट द्वारा "स्वतंत्र भारत में भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन " बिषय पर प्रतिनिधि सम्मलेन 6 मई को कृष्ण मेनन भवन (सुप्रीम कोर्ट के पीछे ) में आयोजित कार्यक्रम के मुख्य अतिथि एवं जनता दल (यू) के राष्ट्रीय अध्यक्ष शरद यादव ने कहा की कोई भी लडाई युवाओं के द्वारा ही लड़ी जाती है. लोकतंत्र में युवाओं की महत्वपूर्ण भूमिका है, वो चाहे गांधीजी के आजादी की लडाई हो या जे.पी का भ्रष्टाचार विरोधी सम्पूर्ण क्रांति जिसके हम सब हिस्सेदार थे. तब मैं किशोर था और हमलोगों ने उसमें बढ़-चढ़ कर हिस्सा लिया था . इस आन्दोलन ने कई नेताओं को जन्म दिया .हमलोगों ने ईमानदारी से काम करने की कोशिश की . हमारी उपलब्धि रही की जे.पी के आन्दोलन से निकले हुए लोग गरीबों की आवाज बने ,लेकिन आज की परिस्थिति भिन्न है. मैं अन्ना के इस आन्दोलन को जनजागरण के दृष्टि से देखता हूँ. युवाओं में साहस का संचार जिस प्रकार मुझे दिखा, उससे मैं महसूस कर रहा हूँ की अब भारत का आम आदमी भ्रष्टाचार के खिलाफ एक नए क्रांति के प्रति आशान्वित है और उसके मद्देनजर हमने भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा का गठन किया है . मैं युवाओं से आह्वान करता हूँ की इस संगठन से जुड़कर अपनी भागीदारी से नए राष्ट्र निर्माणक नेता के रूप में सामने आएं.
पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के.सी. त्यागी ने कहा की हिंदुस्तान के सभी राजनैतिक पार्टियों में जद (यू )एकमात्र ऐसी पार्टी है जिसने अपने एंटी करप्सन फ्रंट का अलग से गठन किया है. जद (यू ) भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन का नेतृत्व करेगी. उन्होंने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का उदाहरण देते हुए कहा की बिहार की शासन व्यवस्था संकल्प शक्ति , पारदर्शिता एवं भ्रष्टाचार विरोधी अभियान का सबसे उत्कृष्ट उदाहरण है ,जिसका अनुकरण आज सभी राज्यों को करने की आवश्यकता है. हमें अपनी जिम्मेवारी एवं प्रतिबद्धता के मानदंडो पर खड़ा उतरना पड़ेगा क्योंकि इस पार्टी से लोगों की अपेक्षाएं बढ़ रही है.
जनता दल (यू) भ्रष्टाचार विरोधी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष संदीप दुबे ने कहा की इस संगठन के गठन का मुख्य उद्देश्य भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ रहे साथियों का राजनैतिक संगठन तैयार करना है. सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन(AOR ) के सचिव सी. डी. सिंह ने कहा की वकील भी इस आन्दोलन का हिस्सा बनेंगे. वहीं वरिष्ठ अधिवक्ता एवं सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष एम्. एन. कृष्णमणि ने कहा की भारत का समाज सभी धर्म जाति में बनता जरूर दिखता है, पर भ्रष्टाचार के मुद्दे पर सारा देश एक साथ खड़ा है. उन्होंने जनता दल( यू )के इस सोंच का समर्थन किया की भ्रष्टाचार से लड़नेवाले लोगों की राजनैतिक मंच तैयार की है और उसमे एंटी करप्शन फ्रंट मील का पत्थर साबित होगा. एशिया के सबसे बड़े साकेत बार के अध्यक्ष मदनलाल ने कहा की भ्रष्ट व्यवस्था को बदलने का संकल्प , जो इस राजनैतिक पार्टी ने दिखाई है , उसके लिए सम्पूर्ण अधिवक्ता समाज समर्थन करता है.
इस अवसर पर आर.टी. आई एक्टिविस्ट्स एसोसिएशन ऑफ इण्डिया के महासचिव गोपाल प्रसाद ने कहा की आज सबसे बड़ी आवश्यकता इस बात की है की भ्रष्टाचार के विरोध में सकारात्मक पहल एवं जनजागृति लाई जाए, जो हम सबों का सामूहिक कर्त्तव्य है. आर.टी आई. के अधिकाधिक प्रयोग से भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन को एक सही दशा और दिशा दी जा सकती है . जद (यू) का यह नया फ्रंट इस दिशा में अग्रसर हो ,ऐसी हमारी अपेक्षा है.
वहीं जद (यू ) एंटी करप्शन फ्रंट के राष्ट्रीय महासचिव चंद्रकांत त्यागी ने आगत सभी अतिथियों आभार व्यक्त करते हुए कहा की हमें इकठ्ठा होकर भ्रष्टाचार के खिलाफ जनयुद्ध छेड़ने की आवश्यकता है.
उक्त अवसर पर "भ्रष्टाचार के विरुद्ध एक आन्दोलन : चिंगारी जो नहीं बुझेगी " लघु नाटिका कुमार साहिल एवं उनके साथियों की सहभागिता से प्रस्तुत किया गया ,जिसकी दर्शकों ने काफी सराहना की. इसके साथ ही गणमान्य कवियों द्वारा प्रस्तुत भ्रष्टाचार पर केन्द्रित कविताओं की श्रोताओं ने मुक्तकंठ से तारीफ की.