शनिवार, 31 अगस्त 2013

LETTER TO RSS CHIEF BY RTI ACTIVIST GOPAL PRASAD

अमेठी दिनांक-14.08.2013 परमादरणीय मोहन भागवतजी, सादर प्रणाम! हलाँकि आप मुझसे अपरिचित हैं परंतु मैं क्या कोई भी हिंदू और खासकर स्वयंसेवक आपसे बिना मिले भी परिचित ही होगा। काफी दिनां से वैचारिक द्वन्द में चल रहा था। वर्तमान परिस्थितियों में हिदुत्व को घेरने की साजिश से जैसे-जैसे अवगत हुआ, मेरा मन अपने तुच्छ विचार को कलमवद्ध कर आप तक प्रेषित करने हेतु विवश हो गया। आप तक इसलिए क्योंकि मुझे आप ही वे व्यक्ति लगे जहां से मुझे आशा की किरण दिखाई दी। आपकी दूरदर्शिता वैचारिक सोंच प्रखरता और बेवाकी का मुक्तकंठ प्रशंसक रहा। मैं विद्यार्थी जीवन में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP) से जुड़ा रहा एवं वर्तमान मं अखिल भारतीय साहित्य परिषद से जुड़ा हूँ। इसी के माध्यम से आपको जानने समझने एवं सुनने का अवसर प्राप्त हो पाया। मुझ जैसे अज्ञानी को साहित्य एवं संस्था के माध्यस से हिन्दुत्व, राष्ट्रधर्म, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ, वर्तमान समस्या एवं समाधान का जो भी ज्ञान प्राप्त हुआ उसका जीवन पर्यन्त ऋणी रहूँगा। हलांकि आपको किसी तरह का सुझाव या सलाह देना सूर्य को दीपक दिखाने जैसे है, परंतु उसके बाद भी मैं यह दुस्साहस करते हुए अपने कुछ विचार व्यक्त करने की चेष्टा कर रहा हूँ:- 1. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के वैसे तो सभी परन्तु विशेषकर दो कर्तव्यनिष्ठ संघ प्रचारकों श्री संजय जोशी एवं श्री नरेन्द्र मोदी के बीच की कटुता को खत्म कर नई पहल करते हुए एकीकरण की दिशा में आपको मध्यस्थ की भूमिका निभानी चाहिए। इससे संघ, भाजपा एवं देश का काफी भला होगा और इस शुभ संकेत का व्यापक असर होगा। हिन्दुत्व वोटों के ध्रुवीकरण के साथ साथ अनुशासन, निष्ठा की कद्र बढ़ेगी और इससे दोनों नेताओं की लोकप्रियता में बढ़ोतरी होगी। हमारा मानना है कि बड़ा वह होता है जो दूसरां को छोटा नहीं समझता। स्वयं को संगठन से बड़ा समझने की भूल कई नेता कर रहे हैं तथा पार्टी को प्रा॰लि॰ कंपनी की तरह चला रहे हैं, जिसका असर कार्यकर्ताआं पर रहा है। 2. यूपीए सरकार पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों को आम जनमानस तर्क ले जाने हेतु भाजपा की सुनियोजित एवं प्रभावी तैयारी हो तथा रा॰ स्वयंसेवक संघ इसकी मानीटरिंग करें। 3. आज आम भारतीय जनमानस में खासकर युवावर्ग में मोदी का ग्राफ सबसे ऊपर है और वे लोकप्रियता के उत्कर्ष पर है। ऐसी स्थिति में जनभावना को तवज्जो न देना भूल साबित हो सकती है। 4. रा॰ स्वयंसेवक संघ को पहल कर भाजपा प्रमुख से ऐसे नेताओं की सूची तैयार करने को कहना चाहिए जो अहं की भावना से पीडि़त हो, उनमें घमंड की भावना लवरेज हो अथवा यह कहा जाय कि “अहं एको द्वयो नास्ति” की उक्ति उन पर चरितार्थ होती हो। ऐसे नेताआं को आपके नेतृत्व में आयोजित प्रशिक्षण वर्ग में शामिल होने की अनिवार्यता हो। इससे संगठन में कटुता बढ़ रही है तथा जिसका घातक असर हो रहा है। इसे रोका जाना अति आवश्यक है। 5. नरेन्द्र मोदी के राज्य गुजरात का विकास माडल, विपक्षियों को घेरने की आवश्यक कार्यशैली एवं चुनावी रणनीति का लाभ भाजपा को राष्ट्रीय स्तर पर तभी प्राप्त हो सकता है जब उनकी अगुआई एवं निर्देशन में चुनाव का प्रबंधन के साथ-साथ उन्हें प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया जाय। 6. एक निश्चित उम्र सीमा के बाद बुजुर्ग नेताओं को नेतृत्व के बजाय निर्देशन की भूमिका में आना चाहिए। 7. भाजपा के सभी नेताओं को आज अनुशासन का पाठ पढ़ाए जाने एवं उसे अमल में लाए जाने की पहल करनी चाहिए। अनुशासन की प्रक्रिया बड़े नेताओं से लेकर एक सामान्य कार्यकर्ता तक समान रूप से लागू हो । 8. एनडीए के घटक दलों के साथ मधुर संबंध एवं समन्वय बढ़ाने में सभी नेताओं को अलग-अलग सुर नहीं बल्कि एक होकर कार्य करने की आवश्यकता है। 9. सतान यूपीए के घोटालों एवं अनियमितताओं को घेरने एवं आम जनता तक पहुंचाने में काफी समय एवं संसाधन लगेगा। इसलिए उसे अतिशीघ्र मूर्त रूप देने की आवश्यकता है। आज आम जनता भ्रष्टाचार मंहगाई एवं जनसमस्याओं से त्रस्त होकर भाजपा को विकल्प के रूप में देख रही है। परन्तु सच्चाई तो यह है कि हम खुद टुकड़े-टुकड़े में बंटे हैं। इसके लिए सच्चे दिल से एकजुटता प्रदर्शित करनी होगी। 10. प्रखर एवं कट्टर हिंदुत्व की भावना ही अगड़ा-पिछड़ा, आरक्षण, जातिवाद, क्षेत्रीयतावाद तुष्टीकरण की नीति का पर्याय हो सकता है,वशर्ते कि उसे समुचित तरीके से व्यापकता देकर आत्मसात किया जाय। 11. भारतीय जनता पार्टी को अलग दिखना समय की सबसे बड़ी मांग है। भ्रष्टाचार विरोधी एवं पारदर्शिता समर्थक छवि होना उसके लिए अत्यावश्यक है। अतः उसे सीआईसी के वर्तमान निर्णय आरटीआई के दायरे में राजनैतिक दलों को लाने की अनिवार्यता का समर्थन करना चाहिए तथा इससे सम्बन्धित बिल का विरोध कर अलग छवि बनानी चाहिए। 12. भाजपा को सत्ता मिलने के एक वर्ष के अंदर हो त्वरित न्यायिक प्रक्रिया एवं सभी विभागों में खाली पड़े पदों को भरे जाने की चुनावी घोषणा का ऐलान करना चाहिए। 13. आम जनता में यह धारणा बन चुकी है कि पर्याप्त कानून के बाद भी घोटालेबाजों को कुछ नहीं होता। इसका कारण ढूँढ़कर वह सभी प्रयास होने चाहिए, जिससे घोटालेबाजों को त्वरित न्यायिक प्रक्रिया के तहत कठोर दंड मिले। जनता के धन का दुरुपयोग एवं डकैती करने से पहले दस बार सोंचे। आम जनता के दिल में भाजपा यदि विश्वास बनाती है तो निश्चित रूप से इसका सबसे ज्यादा लाभ मिलेगा। 14. भाजपा को अल्पसंख्यकों के जनसंख्या का प्रदेशवार डाटाबेस तैयार करने के साथ साथ लाभार्थी अल्पसंख्यकों, लाभ प्राप्त नहीं करने वाले की संख्या एवं योजनाओं का जिक्र करते हुए सभी अल्पसंख्यकों को बताने का प्रयास करना चाहिए कि उसी के लिए बनी योजनाओं से तुष्टीकरण को बढ़ावा मिल रहा। अल्पसंख्यक में ही कटुता फैल रही है तथा यह स्थायी समाधान नहीं है, अर्थात जिसे लाभ नहीं मिलेगा वह असंतुष्ट और उग्र ही तो बनेगा। 15. भाजपा को समरसता के सिद्धांत पर अमल करते हुए दलितों, शोषितों, पीडि़तों को मुख्य धारा लाने एवं उसे संबल प्रदान करने का पहल करना चाहिए, तभी उसपर च्ंतजल ूपजी ं कपििमतमदबम की उक्ति चरितार्थ होगी। आपके द्वारा विमोचित एवं पूर्ण के मूल निवासी श्री संदीप वासलेकर द्वारा लिखित पुस्तक “नए भारत का निर्माण” की मूल अवधारणा-सर्वसमावेशी विकास की आवधारणा का प्रतिप्रादन हो। 16. ऐसे उम्मीदवार जिसके आगे संगठन का अस्तित्व न रहे अथवा जिसे उम्मीदवारी से संगठन के बजाय व्यक्ति विशेष का वर्चस्व रहे और आम कार्यकर्ताओं की उपेक्षा हो या संगठन गौण हो जाय, ऐसे सामन्तवादी उम्मीदवारों/दावेदारों से भाजपा को बचाना होगा। जो अपने निजी हितों की पूर्ति हेतु भाजपा से जुड़ना चाहते हैं। दलीय निष्ठा की परीक्षा ली जाय और इस सम्बन्ध में टूटे-बिखरे, एवं रूठे निष्ठावान कार्यकर्ताओ से भी सम्पर्क, समन्वय एवं संवाद अवश्य स्थापित हो। 17. यूपीए सरकार के रिमोट कंट्रोलर श्रीमती सोनिया गांधी एवं श्री राहुल गांधी को हराने हेतु व्यापक शक्तियों का समीकरण आवश्यक है एवं समर्थ व योग्य मजबूत प्रत्याशी का चयन हो जो उन्हें शिकस्त दे सके। निश्चित रूप से ऐसा होने पर राष्ट्रीय स्तर पर ही नहीं अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी इसका व्यापक असर पड़ेगा। दुर्भाग्य से हम अपने प्रतिद्वन्दी के प्रति साॅफ्ट कार्नर रखते हुए अपना अहित कर रहे हैं। “कृष्ण ने कहा अर्जुन से न प्यार जता दुश्मन से युद्ध कर- युद्ध कर-युद्ध कर”। 18. हमारा मानना है कि “कांग्रेस के कब्र पर ही भाजपा का कमल खिलेगी”। इसी को ध्यान में रखकर हमने उत्तरप्रदेश के अमेठी, रायबरेली, प्रतापगढ़ जिले में आम जनता को जागृत करने के उद्देश्य से उसके अधिकार व कर्तव्य और आरटीआई नियमों की जानकारी देते हुए भारतीय आरटीआई फाईल करने हेतु प्रशिक्षण का कार्यक्रम अपै्रल 2013से प्रारंभ कर चुका हूँ तथा अमेठी संसदीय क्षेत्र से भाजपा टिकट हेतु आवेदन भी दिया है। 19. सोनिया राहुल और राबर्ट बढेरा की कारस्तानियों की जानकारी एवं झूठ के पुलिंदों को तथ्यवार इकट्ठा कर अमेठी एवं रायबरेली की जनता तक विशेष रूप से पहुंचाने एवं मानसिकता बदलने जैसे महत्वपूर्ण कार्य की जिम्मेवारी हमने स्वयं अपने कंधे पर लिया है। इस मिशन की सफलता से इस अति प्रतिष्ठित सीट के समीकरण में टूट एवं उससे उत्पन्न कंपन का असर बहुत दूर तक होगा, जिसका हमें विश्वास है। यह सत्य है कि हमारे पास सुविधा एवं साधन का अभाव है परंतु इसके अलावे जोश जुनून और विपरीत परिस्थितियों में भी लड़ने की क्षमता का विकास अपने व्यक्ति में हमने विकसित किया है। हमारी जान को खतरा है, मुझे धमकियां भी मिलनी शुरू हो गई हैं। परंतु सकारात्मक विश्वास के तहत हमने आरटीआई एवं अन्य स्रोतों द्वारा हासिल सूचनाओं के अस्त्र से राहुल गांधी को अमेठी में घेरने एवं आम जनता के मानसिकता में परिवर्तन करने एवं जंग जीतने का संकल्प किया है। इन्हीं आशा एवं उम्मीद के साथ आपके आशीर्वाद एवं सहयोग अपेक्षित है। सादर धन्यवाद! हम आपके अति अभारी होंगे। यदि आप अपने बहुमूल्य समय के कुछ क्षण देने की कृपा करेंगें। आपका ही- गोपाल प्रसाद (आरटीआई एक्टिविस्ट) महासचिव, आरटीआई एक्टिविस्ट एसोसिएशन सचिव, अखिल भारतीय खटिक समाज सलाहकार सदस्य: विश्व मित्र परिवार एवं मौलिक भारत स्थानीय निवासः अवध निवास, गंगागंज (निकट विन्ध्याचल मंदिर)धम्मौर रोड अमेठी (उ॰प्र॰)पिन-227405 स्थायी पता-मकान नं 210, गलीं नं॰ 3, पाल मोहल्ला, निकट मोहनबाबा मंदिर, मंडावली, दिल्ली-110092 सम्पर्क- 08743057056, 09506933695 EMAIL: sampoornkranti@gmail.com

सोमवार, 5 अगस्त 2013

Activists criticise govt, parties for change in RTI Act

New Delhi, Aug 2 (UNI) Social and RTI activists today slammed the government and political parties for their move to amend the Right To Information Act to keep political parties out of the purview of transparency law. The government yesterday obtained the Cabinet approval to amend RTI Act to keep political parties out of the purview of Act. The Central Information Commission (CIC) had in a ruling in June said six national parties- the BJP, the Congress, NCP, BSP, CPI and CPI(M) had the character of a public authority under the Right to Information Act so they were required to appoint public information officers. Noted RTI activist Subhash Chandra Agrawal said if the government moved to keep political parties out of purview of the RTI Act, then the parties should withdraw all the government facilities. ''Morality and ethics (which do not exist in political community) demand that bill to keep political parties out of purview of RTI Act must be pre-conditioned that they will have to return land and bungalows allotted to them by Union and state governments at subsidised rate and lease,'' Mr Agrawal said. He said tax-concessions available to the political parties should also be abolished. ''The said legislation should make all co-operative societies including multi-state-co-operative societies (MSCS), Public-Private-Partnerships (PPP) and all national-level sports-federations including BCCI to be covered under RTI Act,'' he said. Mr Agrawal said all those getting land and accommodation from governments at subsidised lease/rate etc should be declared as public authorities under RTI Act. He said considering dominating role of private sector on day-to-day aspects of public life like telecommunications and banking, private sector above certain specified turn-over should also be brought under RTI Act. ''Unanimity among political parties is quite usual whenever their mutual interests are involved, and naturally these are against public interests,'' he commented. He also slammed the political parties their option to undo Supreme Court verdicts on tainted ones entering the legislature by asserting supremacy of Parliament. ''Apprehensions about ruling parties misusing Supreme Court verdict on poll-eves against their political opponents are valid. But instead of totally negating Supreme Court verdict, some effective remedy should be legislated to practically free legislature from criminals,'' he said. ''No Parliamentarian will ever invest on a poll gamble for public welfare by investing like rupees eight crores on Lok Sabha election and ‘buying’ a Rajya Sabha seat for rupee 100 crore. These are investments for minting money out of corruption,'' Mr Agrawal added. He stressed on the need of a massive poll reform including Right to Reject. ''But will our law makers clip their own wings by accepting long pending Election Commission recommendations in this regard?''he asked. Another noted RTI activist Gopal Prasad opposed the Centre's move on the Act saying RTI activists from across the country would launch a movement against this. ''The government's step is against transparency. Why political parties are opposing implementation of RTI Act on them. People of the country have right to know about funding of the parties and its sources,'' Mr Prasad said. Mr Prasad, who is also General Secretary of RTI Activists' Association, said he will talk to other organisations working on RTI Act to chalk out a strategy against the government's move. ''I will also write to BJP president Rajnath Singh and senior party leaders within a day or two on the issue. The BJP should think over it as the party always talks about corruption and transparency,'' he added. Mr Prasad said the RTI activists are considering to move to court against the government's step. https://10.200.201.253/eng/edit.asp?mystory=main&mystoryd=02&myid=27984

RTI Activist Gopal Prasad Appeal to you

New Delhi 5th August, 2013. Dear Friends, Jai Bharat ! Having been involved in exposing corruption through RTI for last 3 years, I have long worked for positive change in India. Now I feel that the time has come for me to seek elected offices. I want to bring fresh idea and positive change to end the corruption in India through changing political system by running the Lok-Sabha election from “ Amethi” a place in UP . I think India is not a democratic country but a kingdom run by a foreigner and irrigating the corruption. Probably you know that I have always been concerned about corruption which is responsible for all ills in India. I believe that there are workable solutions available that will enhance Indian political system and minimize the corruption. We all would like to see a corruption free India and will do together. In order to serve the people of India I must conduct an aggressive campaign. My opponent in “Amethi” are well known and established corrupt people, who are founder and fostering the corruption in India for last 67 years. They manage to win the election through money and corrupt power system. For these reasons I feel that I must step forward and offer the voters of “Amethi” a choice. For this campaign to be successful, it will require a strong and organized grassroots initiative. I have already started the awareness in Amethi through corruption story of Congress party and their corrupt kings/queens who have converted India virtually in a kingdom country. We are organizing village meetings and RTI training camps in Amethi. But we have to intensify this campaign through brochures, flayers, yard signs, advertising at different places and lot more to canvass. I cannot do it all alone. That is why I am turning to the people who believe in to end this corrupt kingdom and establish a new clean transparent democratic India. I am inviting them to get involved in my campaign and help in make a difference. Your early contribution will give our race a tremendous boost. You may help through cheque, draft , net payment, counter deposit at bank ( Details of bank are given below). You may also support through providing used computers, furnitures, mobiles ,stationary items etc. You can donate old books also for establishment of library, vachnalaya and free Counseling Centres in different Assembly / Blocks/ areas in Amethi. Thanks in advance for your encouragement and support. “Vande Mataram” ! Sincerely, Gopal Prasad (Loksabha Candidate from “Amethi” ) Mob: 08743057056 Email: sampoornkranti@gmail.com Blog: http://sampoornkranti.blogspot.in http://kavitasekranti.blogspot.in Facebook: www.facebook.com/gopal.prasad.102 Address: House No.-210, 2nd Floor, Street No.-3, Pal Mohalla, Near Mohanbaba Temple, Mandawali, Delhi-110092. Bank and A/c details : GOPAL PRASAD, SBI Saving Bank Account No.- 20002514197. Laxmi Nagar, Dehi Branch. Brief profile of Gopal Prasad (Plz Click on following Google Search link) https://www.google.co.in/#biw=1173&bih=553&sclient=psy-ab&q=gopal+prasad+rti+activist&oq=gopal+prasad+rti+activist&gs_l=hp.12...0.0.2.2625.0.0.0.0.0.0.0.0..0.0....0...1c..22.hp..0.8.2454.9jCaWgwpoh4&psj=1&bav=on.2,or.r_cp.r_qf.&bvm=bv.49784469,d.bmk&fp=880c2e2b5b8e798e