Skip to main content

परिक्रमा नहीं पराक्रम के बदौलत अमेठी से भाजपा टिकट पाने का है आत्मविश्वास : गोपाल प्रसाद

लोकसभा चुनाव का बिगुल बज चूका है। सर्द भरे तापमान के बाबजूद राजनैतिक सरगर्मी ने देश के कथित वीवीआईपी संसदीय क्षेत्र अमेठी का राजनैतिक तापमान बढ़ा दिया है। हर तरफ राजनैतिक चर्चाओं का दौर शुरू हो गया है। राजनैतिक पंडित अपने-अपने समीकरण बनाने में लगे हैं। भावी प्रत्याशी अपने-अपने समर्थन में स्वयं को बढ़ा- चढ़ा कर पेश करने से चूक नहीं रहे हैं। कांग्रेस से अमेठी के वर्त्तमान सांसद राहुल गांधी अपने तीसरे राजनैतिक हेतु पुनः उम्मीदवार होंगे। हालाँकि 10 जनवरी के उनके आगमन कि सारी तैयारी प्रकृति के कोप के कारन स्थगित हो गया। खास बात यह है कि पिछले काफी समय से सुल्तानपुर के कांग्रेस सांसद डा. संजय सिंह के भाजपा में शामिल होने की चर्चा शीर्ष पर थी। विश्वसनीय सूत्र के अनुसार संजय सिंह की शर्त को भाजपा हाईकमान के असहमति एवं संघ की हरी झंडी न मिल पाने के कारण यह कयास मूर्त रूप नहीं ले सका. दिल्ली में सत्तासीन अरविंद केजरीवाल कि आम आदमी पार्टी के डा. कुमार विश्वास जो प्रोफेशनल कवि के साथ- साथ स्वयं घोषित उम्मीदवार भी हैं, के अमेठी आगमन की पहली तिथि स्थगित हो जाने के बाद 12 जनवरी को ज्यादातर बाहरी लोगों की सहभागिता से रैली हुई ,जिसमे उन्होंने अपने जुबान की फिसलन पर माफी भी मांगी। इन राजनैतिक हालातों में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद् एवं अखिल भारतीय साहित्य परिषद् से जुड़े रहे तथा भाजपा के वरिष्ठ नेता संजय जोशी से काफी प्रभावित व करीबी गोपाल प्रसाद परिक्रमा नहीं पराक्रम के बदौलत अमेठी से भाजपा टिकट पाने का आत्मविश्वास रखते हैं 12 जनवरी को अमेठी में वे भाजयुमो के नमो टी स्टाल के सञ्चालन में जी जान से जुटे थे। पिछले लोकसभा चुनाव में लगभग 37 हजार मत प्राप्त कर तीसरा स्थान प्राप्त करनेवाली भाजपा के प्रत्याशी रहे प्रदीप सिंह थौरी एवं विगत विधानसभा चुनाव में लगभग 8 हजार मत प्राप्त करनेवाली प्रत्याशी पूर्व ब्लाक प्रमुख रश्मि सिंह ने उत्तरप्रदेश भाजपा के प्रभारी अमित शाह एवं रामेश्वर चौरसिया के साथ लखनऊ एवं दिल्ली के कई बड़े नेताओं के समक्ष अपनी दावेदारी पेश किये थे , परन्तु इन दोनों उम्मीदवारों को स्पष्ट रूप से ख़ारिज कर दिया गया था। चर्चा है कि खुद हाईकमान ने डा. संजय सिंह के सम्भावित उम्मीदवारी पर अमेठी भाजपा के नेताओं की थाह ली थी। अमेठी भाजपा के अधिकांश नेताओं के स्पष्ट विरोध के स्वर डा. संजय सिंह के प्रस्तावित उम्मीदवारी को लेकर उठने लगे थे। इसी बीच पिछले एक साल से अमेठी नगर के गंगागंज इलाके में रह रहे दिल्ली के आरटीआई एक्टिविस्ट गोपाल प्रसाद ने भाजपा से टिकट की दावेदारी करके सबको चौंकाया। विगत एक बर्ष से वे अमेठी, रायबरेली, सुल्तानपुर, प्रतापगढ़ जनपद जैसे प्रमुख कांग्रेसी गढ़ में आरटीआई प्रशिक्षण के माध्यम से जनजागरूकता शिविर द्वारा जनता से संपर्क साधने में तल्लीन रहे। उनका कहना है कि अमेठी को विकास की राह पर लाना , राहुल गांधी के डपोरशंखी वादों, दावों की कलई खोलना , कांग्रेस सरकार द्वारा बेतहाशा मंहगाई एवं भ्रष्टाचार की वृद्धि तथा तुष्टिकरण के राजनीती की बारीकियों को जनता तक लाएंगे। संपर्क, समन्वय एवं संवाद उनका मूलमंत्र है। जल, जंगल और जमीन के मुद्दों को लेकर संघर्षरत गोपाल प्रसाद भय , भूख और भ्रष्टाचार के खिलाफ अमेठी से बड़े आंदोलन की पृष्ठभूमि तैयार कर रहे हैं। इस उद्देश्य हेतु वे भ्रष्टाचार विरोधी अभियान एवं आरटीआई जनजागरूकता अभियान से सम्बंधित पर्चा/ हैंडबिल छपवाकर उसे सर्वप्रथम अमेठी लोकसभा के सम्पूर्ण इलाकों में वितरित करवाने तथा सुझाव हासिल करने की योजना बना रहे हैं। भाजपा के रूठे, टूटे एवं निष्क्रिय कार्यकर्ताओं को उत्प्रेरित कर सक्रीय करने हेतु वे संकल्पित हैं। विगत 3 जनवरी से 25 जनवरी तक अमेठी लोकसभा क्षेत्र के विभिन्न विधानसभाओं में भारतीय जनता युवा मोर्चा के जिला महामंत्री अधिवक्ता सुधांशु शुक्ल द्वारा युवा मित्र सदस्यता अभियान हेतु युवा साथियों के साथ महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहे हैं। नव बर्ष के अवसर पर चनकीपुरी स्थित एक कंप्यूटर कोचिंग संस्थान में वृक्षारोपण एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यालय प्रांगण में श्रमदान कार्यक्रम की पहल करके विशिष्ट सन्देश दिया है। अमेठी जल विरादरी के बैनर तले भारतीय संस्कृति एवं जल प्रवंधन बिषय पर विचार गोष्ठी के अवसर पर पर्यावरण तथा भारतीय संस्कृति से सम्बंधित बिषयों पर आरटीआई लगाने के संकल्प से अमेठी के वुद्धिजीवियों को इन्होने झकझोड़ने का प्रयास किया एवं एक अमिट पहचान बनाई। गोपाल प्रसाद का कहना है कि अमेठी में उन्होंने शून्य से शुरुआत की है। शून्य का वैसे तो कोई वैल्यू नहीं है , परन्तु जिस किसी के बाद शून्य स्थापित हो जाता है , उसका मूल्य दस गुना बढ़ जाता है। वर्त्तमान में वे इसी समीकरण पर कार्य कर रहे हैं। उनके प्रयास से अमेठी नगर में इस बार पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के जन्मदिवस समारोह का आयोजन संघ कार्यालय के प्रांगण में ही हुआ , जिसमें उन्होंने पहली बार वक्तव्य दिया। उस सम्बोधन में उन्होंने वाजपेयी सरकार के कार्यकाल में गठित आरटीआई ड्राफ्टिंग कमिटी के योगदान का जिक्र किया और कहा कि सोनिया एवं राहुल सूचना का अधिकार कानून का श्रेय लेना चाहते हैं परन्तु वास्तविकता यह है कि देश के विभिन्न अदालतों में दो हजार से ऊपर रिट याचिकाएं दायर होने के उपरांत सर्वोच्च न्यायलय के आदेश पर वर्त्तमान यूपीए सरकार को आरटीआई कानून बनाने का निर्णय लेने को विवश होना पड़ा। प्रतापगढ़ जिले के किठावर प्रखंड में रायसाहब सिंह के आमंत्रण पर भाजपा के मंच से उन्होंने आरटीआई के विभिन्न पहलुओं से अवगत कराया , जहां उन्हें अंगवस्त्रम एवं मदभागवतगीता देकर सम्मानित किया गया। प्रतापगढ़ में गढ़वारा के पूर्व विधयक एवं भाजपा नेता ब्रजेश मिश्र सौरभ का काफी सहयोग उन्हें मिला। उन्हीं के साथ वे सुल्तानपुर में भाजपा रैली में वरुण गांधी के समक्ष हजारों कार्यकर्ताओं के साथ मोदी टी शर्ट पहने पूर्णरूपेण सक्रिय रहे। अमेठी क्षेत्र में जनता से जुड़े महत्वपूर्ण मुद्दे की समीक्षा , समस्या एवं समाधान तथा जनहित के हर पहलू को जानने के उद्देश्य से वे लगभग दस अख़बारों का नियमित रूप से गहन अध्ध्यन एवं कटिंग करके बिषयवार ब्यौरा संग्रहित भी करते हैं। अब तो उन्होंने अमेठी के जिलाधिकारी कार्यालय, पुलिस अधीक्षक कार्यालय एवं नगर पंचायत अमेठी कार्यालय में आरटीआई फाईल करके एक नई पारी की शुरुआत की है। उनका मानना है कि ठेकेदारों के माध्यम से वोट बटोरने कीपद्धति इस बार के लोकसभा चुनाव में समाप्त हो जायेगी। सादगी, सहजता, सौम्य व्यवहार , नैतिकता , आचरण , कार्यशैली, क्रियाशीलता को वरीयता मिलेगी। विगत अक्टूबर में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रथम अभ्यास वर्ग में प्रशिक्षण लेकर स्वयंसेवकों एवं भाजपा कार्यकर्ताओं में उत्साह भरने का कार्य भी वे कर रहे हैं। पिछले दिनों राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के पदाधिकारियों के उच्चस्तरीय बैठक ( सरस्वती विद्या मंदिर इंटर कालेज, गौरीगंज) में भी वे शामिल रहे। उनके कार्यों एवं मिलनसार और सेवाभावी व्यवहार ने संघ के साथ -साथ अमेठी के भाजपा पदाधिकारियों , वरिष्ठ नेताओं तथा कार्यकर्ताओं को काफी प्रभावित किया है। ऐसे में कोई आश्चर्य नहीं कि उनका नाम सर्वसम्मति से भाजपा प्रत्याशी के रूप में चयनित हो जाय। इधर अमेठी लोकसभा चुनाव में कमल खिलाने की जिम्मेदारी भाजपा के तीन दिग्गज क्षेत्रीय नेताओं को सौंपी गयी है. राष्ट्रीय परिषद् के सदस्य गोविन्द नारायण शुक्ल उर्फ राजा बाबू को लोकसभा का संयोजक बनाया गया है। अमेठी के पूर्व विधायक पंडित यमुना प्रसाद मिश्रा और गौरीगंज के पूर्व विधायक तेजभान सिंह पलक बनाए गए हैं। 17-19 जनवरी को भाजपा की राष्ट्रीय परिषद् की बैठक की समाप्ति के बाद पार्टी के नए कार्यक्रम, रणनीति एवं उम्मीदवारों की सूची जारी होने की सूचना के उपरान्त गोपाल प्रसाद के उत्साह एवं लोकप्रियता में प्रतिदिन इजाफा हो रहा है। --------------------------------------------------------------------------------------------- GOPAL PRASAD ( RTI ACTIVIST ) HOUSE NO. -210, STREET NO. -3, PAL MOHALLA , NEAR MOHANBABA MANDIR, MANDAWALI, DELHI-110092. MOBILE: 09910341785 EMAIL: sampoornkranti@gmail.com BLOG: http://sampoornkranti.blogspot.in FACEBOOK: www.facebook.com/gopal.prasad.102 ............................................................................... AMETHI ADDRESS: AWADH NIWAS, NEAR VINDHYACHAL MANDIR, IN FRONT OF PNB, GANGAGANJ, AMETHI (U.P.)

Comments

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …