Skip to main content

अमेठी का अनुभव : गोपाल प्रसाद ( आर टी आई एक्टिविस्ट )


विगत 13 अप्रैल 2014 से 07  मई  2014 तक लोकसभा  चुनाव के दौरान अमेठी में रहकर काफी अनुभव प्राप्त किया।  कुछ लोगों की आंतरिक मानसिकता एवं उनकी वास्तविकता से रूबरू हुआ।  भाजपा से टिकट  नहीं मिलने के बाद  वरिष्ठ  भाजपा नेता श्री संजय जोशी एवं राष्ट्रीय  स्वयं सेवक  संघ   के वरिष्ठ पदाधिकारी श्री इन्द्रेश जी के इच्छानुसार  मैंने अमेठी से निर्दलीय उम्मीदवारी का विचार  त्याग दिया।
            स्वामी रामदेव जी के अमेठी आगमन  की तैयारी एवं फिर स्थगित होने  के बाबजूद भारत स्वाभिमान ट्रस्ट से जुड़े होने के कारण सम्पूर्ण चुनाव अवधि में उत्तरप्रदेश प्रभारी श्री सन्देश योगीजी , श्री दुर्गेशजी , श्री सुरेन्द्र सिंह जी एवं श्री शशांकजी के  सानिध्य में सैकड़ों  कार्यकर्ताओं के साथ सम्पूर्ण समय  दिया एवं श्री नरेंद्र मोदी जी को प्रधानमंत्री पद पर पदासीन करने हेतु भाजपा के पक्ष में माहौल बनाने में प्राणपण से जुटे रहे।
   मेरा  अमेठी से चुनाव लड़ने की इच्छा  का कारण  राहुल गांधी के भाषण की एक उक्ति थी। राहुल गांधी ने  कहा  था कि बिहार  और उत्तर प्रदेश के लोग दिल्ली एवं मुम्बई में भीख मांगने का काम करते हैं .साथ  ही  उन्होंने यह भी कहा था कि अमेठी के लोग काम नहीं करना चाहते हैं। उनके  इसी  वक्तव्य का बदला लेने का गुस्सा मेरे दिल में उबाल मार रहा  था  . वर्त्तमान सांसद राहुल गांधी के डपोरशंखी वादों  एवं दावों की कलई खोलना  ही हमारा मकसद है।
   अमेठी क्षेत्र से जुड़ाव एवं प्रतिबद्धता के संकल्प  से मैं पीछे नहीं रहा।  हमें विश्वास है कि अमेठी की जनता को  वर्तमान सांसद श्री राहुल गांधी की नाकामियों एवं सच्छाईयों से अवगत करने का मेरा प्रयास एक न एक दिन अवश्य रंग लाएगा।  हमें खुशी है कि दो वर्षों के अमेठी प्रवास में हमारे उद्देश्यों , विचारधाराओं को महत्व देनेवाले भारतीय वायुसेना के सेवानिवृत फ़ौजी  भेटुआ निवासी श्री  सुरेशचन्द्र पाण्डेय  नामक मात्र एक व्यक्ति मिले।
         अमेठी की मूलभूत समस्याओं के निदान एवं विकास हेतु हमारा  बहुउद्देश्यीय  संघर्ष अनवरत रूप से जारी रहेगा।  मैं हार माननेवाला व्यक्ति नहीं हूँ और न ही पीछे मुड़कर देखनेवाला प्राणी।  अपनी असफलताओं से सबक लेकर  नई शक्ति , नई ऊर्जा , नई टीम के साथ राष्ट्र के महत्वपूर्ण उद्देश्यों की पूर्ति हेतु सतत गतिशील रहूंगा
     गोरखपुर में आयोजित  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ  प्रथम वर्ष (विशेष) प्रशिक्षण शिविर  जो  संभवतः 25 मई से 15 जून तक  चलेगा में भाग लेने हेतु 23 मई को अमेठी से प्रस्थान करूंगा।
अमेठी वासियों को निम्न पंक्तियों के मर्म समझने की जरूरत है -----
" करत -करत अभ्यास ते, जड़मति होत सुजान
 रसरी आवत जात ते, सिल पर पडत निशान। "
       जिन साथियों एवं शुभेक्षुओं ने मुझ जैसे तुच्छ , निर्बल , बुद्धिहीन पर अब भी विश्वास व्यक्त किया एवं आर्थिक सम्बल दिया उनका मैं आजीवन आभारी रहूंगा।
...............................................................................…………………………………………

Comments

  1. Earn from Ur Website or Blog thr PayOffers.in!

    Hello,

    Nice to e-meet you. A very warm greetings from PayOffers Publisher Team.

    I am Sanaya Publisher Development Manager @ PayOffers Publisher Team.

    I would like to introduce you and invite you to our platform, PayOffers.in which is one of the fastest growing Indian Publisher Network.

    If you're looking for an excellent way to convert your Website / Blog visitors into revenue-generating customers, join the PayOffers.in Publisher Network today!


    Why to join in PayOffers.in Indian Publisher Network?

    * Highest payout Indian Lead, Sale, CPA, CPS, CPI Offers.
    * Only Publisher Network pays Weekly to Publishers.
    * Weekly payments trough Direct Bank Deposit,Paypal.com & Checks.
    * Referral payouts.
    * Best chance to make extra money from your website.

    Join PayOffers.in and earn extra money from your Website / Blog

    http://www.payoffers.in/affiliate_regi.aspx

    If you have any questions in your mind please let us know and you can connect us on the mentioned email ID info@payoffers.in

    I’m looking forward to helping you generate record-breaking profits!

    Thanks for your time, hope to hear from you soon,
    The team at PayOffers.in

    ReplyDelete
  2. Really this is very great information sharing with us. Thanks lot.Examhelpline.in

    ReplyDelete
  3. Such a good information given to us..thank you..
    careinfo.in

    ReplyDelete
  4. It nice information...thank you sharing with us..carebaba.com

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

वर्तमान में शिक्षा का उद्देश्य

शिक्षा का प्रथम उद्देश्य बच्चों को एक परिपक्व इन्सान बनाना होता है, ताकि वो कल्पनाशील, वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और देश का भावी कर्णधार बन सकें, किन्तु भारतीय शिक्षा पद्धति अपने इस उद्देश्य में पूर्ण सफलता नहीं प्राप्त कर सकी है, कारण बहुत सारे हैं । सबसे पहला तो यही कि अंगूठाछाप लोग डिसा‌इड करते हैं कि बच्चों को क्या पढ़ना चाहिये, जो कुछ शिक्षाविद्‍ हैं वो अपने दायरे और विचारधारा‌ओं से बंधे हैं, और उनसे निकलने या कुछ नया सोचने से डरते हैं, ऊपर से राजनीतिज्ञों का अपना एजेन्डा होता है, कुल मिलाकर शिक्षा पद्धति की ऐसी तैसी करने के लिये सभी लोग चारों तरफ से आक्रमण कर रहे हैं, और ऊपर से तुर्रा ये कि ये सभी लोग समझते हैं कि सिर्फ वे ही शिक्षा का सही मार्गदर्शन कर रहे हैं, जबकि दर‌असल ये ही लोग उसकी मां बहन कर रहे हैं । मैं किसी एक पर दोषारोपण नहीं करना चाहता, शिक्षा पद्धति की रूपरेखा बनाने वालों को खुद अपने अन्दर झांकना चाहिये और सोचना चाहिये, कि क्या उसमें मूलभूत परिवर्तन की जरूरत है। आज हम रट्टामार छात्र को पैदा कर रहे हैं, लेकिन वैचारिक रूप से स्वतन्त्र और परिपक्व छात्र नहीं, क्या यही हमा…

राजनीति में भ्रष्टाचार

भ्रष्टाचार और राजनीति का एक गहरा संबंध है । जहां हम विकास की एक नई गाथा को रचने का सपना संजोए हुए हैं वहीं दुनिया के सामने हमारी गरीबी की सच्चाई को स्लमडॉग मिलेनियर जैसी फिल्मों के सहारे परोसा जा रहा है । आज हम भ्रष्टाचार के मामले में बंग्लादेश, श्रीलंका से भी आगे हैं ।
झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री सह सांसद मधुकोड़ा का मामला भ्रष्टाचार के मामले में सामने आया है । जिसमें ४ हजार करोड़ के घपले का पता चला है । कोड़ा का नाम भी उन राजनेताओं में जुड़ गया है जो भ्रष्टाचार के मामले में दोषी पाये गए हैं या घिरे हुए हैं । भ्रष्टाचार को फैलाने वाले राक्षस सत्ता में आसीन राजनीति के शीर्ष नेता हैं इसकी शुरूआत भारत के प्रथम प्रधानमंत्री पंडित जवाहर लाल नेहरू के समय से ही हो गई थी । १९५६ में खाद्यान्‍न मंत्रालय में करोड़ों रूपये की गड़बड़ी पकड़ी गई । जिसे सिराजुद्दीन काँड के नाम से जाना जाता है । उस समय केशवदेव मालवीय खाद्यान्‍न मंत्री थे उन्हें दोषी पाया गया । १९५८ में भारतीय जीवन बीमा में मुंधरा काँड हुआ जिसकी फिरोज गाँधी ने पोल खोली थी । १९६४ में भ्रष्टाचार को रोकने के लिए “संथानम कमिटी” का गठन किया गया ।…

काले धन एवं नकली नोटों से छुटकारा - भ्रष्टाचार पूर्णत: खत्म

प्राय: सभी देशों की सरकारों का एक रोना साझा है और वो भी अति भयंकर रोना! देश की अर्थ व्यवस्था में काला धन । यह काला धन बहुत से देशों को, बहुत सी सरकारों को बहुत रुलाता है और बुद्धिजीवी वर्ग को अत्यंत चिंतित करता है । अर्थशास्त्रियों की नाक में दम करके रखता है । रोज न‌ए-न‌ए सुझाव दि‌ए जाते हैं, विचार कि‌ए जाते हैं कि किस तरह इस काले धन पर रोक लगा‌ई जा‌ए. इनकम टैक्स डिपार्टमेंट तो छापों में विश्वास रखता है, जहाँ कहीं सुंघनी मिली नहीं कि पहुँच ग‌ए दस्ता लेकर । अजी! काले धन की बात तो छोड़ि‌ए! नोटों को लेकर इससे भी बड़ी समस्या का सामना क‌ई देशों को करना पड़ता है, और वो है नकली नोटों की समस्या । दूसरे देश की अर्थव्यवस्था को चौपट करना हो या बेहाल करना हो, प्रिंटिंग प्रेस में दूसरे देश के नोट हूबहू छापि‌ए और पार्सल कर दीजि‌ए उस देश में, बस फ़िर क्या है - बिना पैसों के तमाशा देखि‌ए उस देश का । अब तो उस देश की पुलिस भी परेशान, गुप्तचर संस्था‌एं भी परेशान और सरकार भी परेशान! नकली नोट कहां-कहाँ से ढ़ूंढ़े और किस जतन से? बड़ी मुश्किल में सरकार ।
बचपन से छलाँग लगाकर जब हमने भी होश सँभाला तो आ‌ए दिन काले धन …